How to Grow and Caring Hibiscus || गुलहड़ पर फूल ना आने पर क्या करें

How to Grow and Caring Hibiscus || गुलहड़ पर फूल ना आने पर क्या करें 

नमस्कार दोस्तो।

इस लेख से आप जान सकेगें
▪गुलहड़ को कैसे और कब उगायें
▪गुलहड़ में फूल ना आने कारण
▪गुलहड़ में फूल ना आने पर क्या करें ?


गुलहड़ , जवाकुसुम एक ऐसा पौधा है ।जो बहुत ही सुंदर होता है और सुंदर फूल भी देता है ।अगर आप फूलों के शौकीन हैं तो आपने गुलहड़ का पौधा जरूर लगाया होगा ।और अगर अभी तक आपने गुलहड़ को अपने बगीचे में नहीं लगाया है तो लगा लीजिए। गुलहड़ बहुत अधिक फूल देने के लिए जाना जाता है। यह लंबे समय तक आप के बगीचे की शोभा बढ़ा सकता है। गुलहड़ उगाना बहुत ही सरल है ।साथ ही साथ उसकी देखरेख करना भी कोई कठिन काम नहीं है।
गुलहड़ की सैकड़ो वैरायटी हैं  और यह अनेंक कलर में उपलब्द है।देशी गुलहड़ को Cutting से उगाया जाता है। Graft गुलहड़ का फूल बहुत ज्यादा सुन्दर होता है।
आज हम आपको बताएंगे कि आप अपने बगीचे में गुलहड़ को किस प्रकार से लगा सकते हैं ? और गुलहड़ की किस तरीके से देखेंरेख करें जिससे आप ज्यादा से ज्यादा गुलहड़ के पौधे से फूल पा सके।


आप हमारे YouTube channel की video देखकर यह सब बड़ी आसानी से सीख सकते है।


गुलहड़ को उगाना

▪ आप केवल देशी गुलहड़ को cutting से उगा सकते है।गुलहड़ को कटिंग से लगाया जाता है कटिंग लगाने का सही समय जुलाई से लेकर नवंबर तक का है। इस समय आप गुलहड़ के पौधे की छोटी छोटी कटिंग बनाकर जमीन में लगा दीजिए । 8  से 10 दिन में आपके पास गुलहड़ के अनेंक छोटे-छोटे  पौधे तैयार हो जाएंगे ।
▪कटिंग लगाने के लिए कुछ सावधानियां रखनी है कटिंग 4 इंच से बड़ी ना बनाएं ।कटिंग लगाने से पहले मिट्टी में फंगस रोकने के लिए कोई दवा लगा ले। कटिंग में समय से पानी देते रहें अगर कटिंग सूख गई तो आपके अंकुरित हुये पौधे भी सूख जाएंगे।
▪गुलहड़ को गमले में लगाने का सबसे अच्छा मौसम जुलाई से लेकर सितंबर तक का होता है। सर्दियों में तेज सर्दी को छोड़कर किसी भी महीने में गुलहड़ के पौधे को लगाया जा सकता है।
▪गुलहड़ को गमले में लगाने के लिये बड़ा गमला प्रयोग में लें। 12" से बड़ा गमला सही रहता है।
गुलहड़ को ज्यादा पानी और अधिक आद्रता पसन्द है।

गमले में गुलहड़ लगाने के लिये मिट्टी

▪ नार्मल Soil -50%
▪Compost-30%
▪Sand-15%
▪Neem khali5%
Compost ना होने पर आप गोबर खाद का प्रयोग कर सकते है।

गुलहड़ पर फूल ना आने के कारण।

कभी-कभी गुड़हल के पौधे पर फूल नहीं आते ।दोस्तों गुलहड़ को अधिक पानी और ज्यादा और उरवर्क की जरूरत होती है ।लेकिन आप अगर गुलहड़ में ज्यादा पानी देते रहेंगे तो आपका गुलहड़का पौधा बड़ा तो हो जाएगा लेकिन उस पर समय से फूल नहीं आयेगें।
▪गुलहड़ में फास्फोरस की कमी होने पर फूल नही आते
▪गुलहड़ को समय से prun ना करने पर भी फूल नही आते।
▪गुलहड़ को तेज धूप की जरूरत होती है।धूप कम मिलने पर अच्छे फूल नही आते।
▪गुलहड़ को समय से गोबर खाद ,वर्मी कम्पोस्ड और बनाना पील फर्टीलाइजर की खिद देते रहना चाहिये।


आप हमारे YouTube channel की video देखकर यह सब बड़ी आसानी से सीख सकते है।




गुलहड़ पर फूल ना आने पर क्या करें


▪गुलहड़ के पौधे में तुरन्त केले के छिलकों से बनी खाद दे सकते है।

▪गुलहड़ के पौधे में हर माह DAP और NPK के 10  दाने मिट्टी में दबा देने पर फूल आना शुरू हो जाते है।

▪अगर आपके पास अन्डो के खोल(छिलके) है तो हर सप्ताह कुछ छिलके गुलहड़ के गमलों में या मिट्टी में दबा कर पौधे को ऊर्जा दी जा सकती है।
  1. ▪ अगर आपका गुलहड़ ज्यादा ही कमजोर है तो हड्डी चूरा खाद का प्रयोग आप अपने गुलहड़ में करना शुरू कर दें।


आप हमारे YouTube channel की video देखकर यह सब बड़ी आसानी से सीख सकते है।





How to Grow and Caring Hibiscus || गुलहड़ पर फूल ना आने पर क्या करें How to Grow and Caring Hibiscus || गुलहड़ पर फूल ना आने पर क्या करें Reviewed by homegardennet.com on सितंबर 26, 2017 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

thanks for your comment

Blogger द्वारा संचालित.