छत पर सब्जियां उगाने के लिये कौन सी खाद सबसे अच्छी है

जैविक फार्मिंग के तहत हम आपको छत पर सब्जियां उगाने की जानकारी दे रहे हैं आज इसी क्रम में हम आपको बताने वाले हैं कि अगर आप अपने घर पर या घर के छत पर जैविक रूप से सब्जियां उगा रहे हैं तो उसमें कौन सी खाद प्रयोग करनी चाहिए जिससे आपके यहां सब्जियों की अच्छी पैदावार हो सके।



खाद -
प्राकृतिक खाद (Organic fertilizer )
रासायनिक खाद
अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो सब्जियां उगाते समय प्राकृतिक खाद का प्रयोग करें जिससे हम बहुत सी बीमारियों से बच सकें ।अगर आप अपनी छत पर सब्जियां उगा रहे हैं तो जैविक खाद का प्रयोग कीजिए जिससे आपके छत पर सब्जियों की अच्छी पैदावार हो सकें।
सब्जियों के लिये खाद -
गोबर खाद
कम्पोस्ट खाद
वर्मी कम्पोस्ट खाद
किचन वेस्ट खाद
तरल खाद
प्राकृतिक खाद की बात की जाये तो गोबर या कम्पोस्ट खाद सबसे बेहतर खाद है। देशी गाय,भैंस,बकरी,ऊंट,गधा,घोड़ा आदि के गोबर से बनी अच्छे तरीके से सड़ चुकी गोबर खाद पौधों के लिये किसी अमृत से कम नही। पशुओं के गोबर से बनी गोबर खाद कम से कम 9 महीने पुरानी होनी चाहिए 3 महीने से कम पुरानी गोबर खाद का प्रयोग आप के पौधों को जलाकर मार सकता है इसलिए ताजा गोबर खाद का प्रयोग भूलकर भी ना करें।


potting mix बनाते समय कितना गोबर खाद लें
Potting mix बनाते समय कम से कम 30% और अधिकतम 50% मिट्टी के सापेक्ष गोबर खाद का प्रयोग करना चाहिये। अगर मिट्टी ज्यादा भुरभुरी और उर्वरक है तो कम गोबर खाद प्रयोग करें ।रेतेली या चिकनी मिट्टी होने पर ज्यादा खाद का प्रयोग करना चाहिये। मिट्टी में गोबर खाद मिलाने से पहले गोबर खाद को अच्छे तरीके से छीन लेना चाहिए जिससे उसमें उपस्थित कंकड़ पत्थर कांटे पॉलिथीन जैसी अशुद्धियां दूर हो सके। उसके बाद ही गोबर खाद को मिट्टी में मिलाना चाहिए मिट्टी में मिलाने से पहले गोबर खाद को हल्का सुखा लेना चाहिए जिससे वह बुरी हो सके और मिट्टी में मिलाने पर मिट्टी का भुरभुरा पन और ज्यादा बढ़ जाए
Normal Soil 50%
Gobar khad 50%
छत पर सब्जियां उगाने के लिए मिट्टी तैयार करते समय आप अपने बगीचे की या खेतों में पाई जाने वाली साधारण मिट्टी का प्रयोग कर सकते हैं। ध्यान रखें गमलों में सब्जियां उगाते समय उर्वरक मिट्टी लें। जिससे लंबे समय तक आप उस मिट्टी में सब्जियां उगा सके। मिट्टी में कंकड़ पत्थर आदि की अशुद्धियां नहीं होनी चाहिए अगर मिट्टी में कंकड़ पत्थर हैं तो उन्हें निकाल कर अलग कर दें। काली या चिकनी मिट्टी अधिक उर्वरक होती है ।लेकिन यह भुरभुरी कम होती है इसलिए इसमें रेत मिक्स करके इस मिट्टी को भुरभुरा बना लेना चाहिए।



गोबर खाद का आगे उपयोग कैसे करें ।
आपने खाद मिलाकर potting mix बना ली और उसमें सब्जियां लगा दी ।सब्जियों के बीज उगने के बाद लगभग 35-50 दिन तक आपको दुबारा खाद देने की जरूरत नही पड़ेगी। 50 दिनों के बाद सभी गमलों की मिट्टी की गुड़ाई करें और मिट्टी को दो दिन धूप लगने दें। फिर सभी गमलों में 50 ग्राम ( लगभग दो मुठ्ठी) गोबर खाद महीने में दो बार लगाते रहें। इस तरीके से हर महीने गमलों की मिट्टी के गुड़ाई करें धूप लगने दें और उसके बाद उनमें दो मुट्ठी गोबर या कंपोस्ट खाद मिलाकर मिट्टी की हल्की गुड़ाई कर दे उसके बाद पानी दे दे इस तरीके से आप अपने सब्जियों के गमलों में गोबर खाद दे सकते हैं गोबर खाद देते समय बस एक बात ध्यान रखनी है कि आपकी गोबर खाद अच्छे तरीके से सड़ी होनी चाहिए। अन डीकंपोस्ट गोबर खाद का प्रयोग ना करें।



अगर आपको हमारे ध्दारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी है तो आप हमारी इस post को share जरूर करें अगर आपके मन में कोई सवाल या हमारे लिये सुझाव है तो आप हमारे साथ उसे साझा जरूर करें । आप gardening संबधित जानकारी के लिये हमारे youtube चैनल home garden को जरूर देखें



छत पर सब्जियां उगाने के लिये कौन सी खाद सबसे अच्छी है छत पर सब्जियां उगाने के लिये कौन सी खाद सबसे अच्छी है Reviewed by homegardennet.com on सितंबर 15, 2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

thanks for your comment

Blogger द्वारा संचालित.